रंडी कहाँ मिलती हैं। Randi kahan milti hai. रंडी कहाँ मिलेगी।



रंडी कहा मिलती है। रंडी कहाँ मिलती है। randi kaha milti hai. Randi kahan milti hai. Randi ka milti hai. Randi ka phone number . Randi ka number . Randi ka whatsapp number. रंडी का नंबर
लखनऊ। देह-व्यापार की खुली मंडियां देश भर खूब फल-फू ल रही हैं। राजधानी लखनऊ का जानकीपुरम हो, चिनहट, महानगर, हजरतगंज, चौक, राजाजीपुरम, आलमबाग अमीनाबाद, ऐशबाग और कैंट आसपास ही नहीं, उपनगरों में भी इसकी डालें खूब लटक रही हैं। हैरत की बात है कि शहर का आधुनिक बाजार कहलाने वाले सहारा गंज क्षेत्र में तो इसका सर्वाधिक सक्रिय और बेशकीमती बाजार पसरा हुआ है।


कपड़ों की तरह बिकता है जिस्म
न कहीं कोई झिझक और न कोई शर्म! जैसे आप टीशर्ट या गाजर-मूली, मिठाई खरीदने निकलते हैं, ठीक उसी तरह आपको गर्म-गोश्‍त मिल सकता है। बेहद आसानी से। कीमत तीन हजार से लेकर पचास हजार रूपया तक। पर ऐसा नहीं कि यह सब दबे-छिपे चल रहा हो। सारा कुछ खुलेआम। नेट खोलिये और टाइप कीजिए फीमेल स्‍कॉर्ट इन लखनऊ । आपको एक नहीं, हजारों साइट्स मिल जाएंगीं। किसी मंझे हुए व्‍यापारी की तरह नेट-बाजार सजा हुआ दिखेगा। अदाएं, समय और उनका मूल्‍य। बिना किसी बारगेनिंग की तरह। लगता है कि जैसे किसी कुशल वेब-पेज डेवलपर्स की सुविधा ली जाती है इसके लिए। बिलकुल अपडेट।

बाजार कमसिन लड़कियों से लेकर अधेड़ महिलाओं तक के लिए सजा रहता है। आपको जरूरत हो तो लेस्बियन और गे भी इस बाजार में मिल जाएंगे। इतना ही नहीं मोबाइल के व्हाट्सएप भी एक बाजार सजा हुआ है। जैसे महानगर, सदर और आलमबाग जैसे किसी साप्‍ताहिक मेला-ठेला की ही तरह का हरा-भरा।
इसके लिए आपको सिर्फ किसी एक सुराग देने वाले की जरूरत है, जो उपरोक्‍त बाजारों में ढाबे-चाय-पानवाले या किसी स्‍थानीय रिक्‍शेवाले के सहारे मिल सकता है। आपको इनमें से किसी चौराहे पर बुलाया जाएगा, बातचीत होगी और फिर फोटोंज का आदान-प्रदान के बाद सौदा पक्‍का किया जाएगा। 


अब या तो पुलिस को कुछ पता ही नहीं रहता है, या फिर वह सफेद झूठ बोलते हुए खुद को साफ-सुधरा साबित करते रहती है। 


दिल्‍ली का जीबी रोड 
दि‍ल्‍ली स्थित जीबी रोड का पूरा नाम गारस्टिन बास्टिन रोड है। यह दिल्ली का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया है। हालांकि इसका नाम सन् 1965 में बदल कर स्वामी श्रद्धानंद मार्ग कर दिया गया। इस इलाके का भी अपना इतिहास है। बताया जाता है कि यहां मुगलकाल में कुल पांच रेडलाइट एरिया यानी कोठे हुआ करते थे। अंग्रेजों के समय इन पांचों क्षेत्रों को एक साथ कर दिया गया और उसी समय इसका नाम जीबी रोड पड़ा।
मेरठ का कबाड़ी बाजार

पश्चिमी यूपी के बड़े शहर मेरठ में स्थित कबाड़ी बाजार बहुत ही पुराना रेड लाइट एरिया है। यहां अंग्रेजों के जमाने से देहव्यापार किया जाता है। यहां देह व्‍यापार के धंधे मे अधिकांश नेपाली लड़कियां ही हैं।


Popular posts from this blog

बॉलीवुड मॉडल पार्वती माहिया ने क्यों कबूल किया इस्लाम। पढ़िए और शेयर कीजिये।

रोहिंगय मुसलमानो की मदद के लिए तुर्क़ी ने किया बर्मा पर हमला। पढ़े पूरी खबर

बड़ी खबर: योगी ने लगाई उत्तर प्रदेश में इन जानवर की कुरबानी पर रोक। पढ़े पूरी खबर।

मौलाना मदनी ने दी योगी को चेतावनी कुरबानी में रुकावट बनने की कोशिश मत कर। पढ़े पूरा ब्यान

कट्टर संगठन तालिबान व अलक़ायदा बर्मा पर हमला करने को तैयार। पढ़े पूरी खबर

अलका ने कहा छेड़छाड़ करने वालो का लिंग काटो तो शाज़िया उतरी लिंग के बचाव में। पढ़े पूरी खबर

मोदी के प्रधानमंत्री बनने से हो रहा है मुसलमानों का कत्ले आम-- अमेरिका। पढ़े पूरी खबर

हिन्दू संगठनों ने पोस्टर लगाकर दी मुसलमानों को बकरा ईद ना मनाने की धमकी। अगर मनाई तो पढ़े पूरी खबर

मुस्लिम लड़की को हिन्दू बनाने वाले हिन्दू युवक ने अब खुद कबूल किया इस्लाम। जानिए क्यों। शेयर करे