जानिए मासूम रोहिंग्या मुसलमानो को क्यों भगा रही है मोदी सरकार। पढ़े पूरी खबर


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के म्यांमार दौरे से पहले भारत ने यह घोषणा की थी कि वह म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों को भगाने  पर विचार कर रहा है.


भारत में 40,000 रोहिंग्या समुदाय के लोग हो सकते हैं.

रिजिजू ने कहा था कि इसमें 16,000 संख्या उन रोहिंग्या मुसलमानों की है जो संयुक्त राष्ट्र के शरणार्थियों के तौर पर पंजीकृत हैं.

उन्होंने कहा था, "यूएनएचसीआर रजिस्ट्रेशन का मतलब कुछ भी नहीं है. हमारे लिए वे सभी अवैध प्रवासी हैं."

25 अगस्त को पुलिस चौकी पर हमले के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कड़ी निंदा करते हुए बयान जारी किया था कि भारत आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में म्यांमार के साथ मज़बूती से खड़ा है.

दोनों बयानों को देखकर लगता है कि यह 5 सितंबर से होने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के म्यांमार दौरे के मद्देनज़र दिए गए हैं.

हमले के बाद शुरू हुई सैन्य कार्रवाई के बाद 10 हज़ार रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश भागकर गए हैं लेकिन इस मामले पर चीन की चुप्पी ने भारत को मदद दी. कुछ ऐसे ही सुर में बर्मा की मुख्यधारा का जनमत भी सोचता है.
यह अभी तक साफ़ नहीं है कि भारत इन रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार में भेजेगा या फ़िर बांग्लादेश में.

रोहिंग्या इस समय बिना राष्ट्र के हैं, न म्यांमार उन्हें स्वीकार करता है और बांग्लादेश ख़ुद ही लाखों रोहिंग्या शरणार्थियों का घर बन चुका है.

रोहिंग्या मुसलमानों को निर्वासित करने का मुद्दा भारत के सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है जिस पर सोमवार को सरकार से जवाब मांगा गया था.

इस पूरी घोषणा के पीछे का इरादा म्यांमार के कट्टर बौद्ध राष्ट्रवादियों के साथ जुड़ाव दिखाता है.

भारत में मणिपुर यूनिवर्सिटी में म्यांमार स्टडीज़ सेंटर की अगुवाई करने वाले जितेन नोंगथॉबम ने बीबीसी से कहा, "जब बात मुस्लिमों को लेकर सोच की आती है तो बर्मा के राष्ट्रवादी और कट्टर बौद्ध मोदी और भाजपा के सियासी तंत्र को ख़ुद के ज़्यादा करीब पाते हैं."

इसके साथ-साथ विशेष अभियानों में म्यांमार की सेना को ट्रेनिंग देने से जुड़ी भारत की योजनाओं को कुछ लोग रोहिंग्या चरमपंथियों के ख़िलाफ़ म्यांमार के सैन्य अभियान के समर्थन के रूप में देखते हैं.

भारत म्यांमार के सैन्य अधिकारियों के साथ अच्छे रिश्तें बनाना चाहता है क्योंकि उसे उम्मीद है कि ऐसा करने से भारत के पूर्वोत्तर इलाकों में सक्रिय चरमपंथियों के ख़िलाफ़ उसे मदद मिलेगी क्योंकि इनमें से कई म्यांमार के जंगलों में रहते हैं.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दौरे के दौरान बागन जाएंगे, जहां वह भूकंप के दौरान तबाह हुए प्राचीन मठ भी जाएंगे. भारत ने इस मठ का पुनर्निर्माण कराया था. मोदी रंगून के श्वेडागॉन मठ भी जाएंगे और एक स्थानीय स्टेडियम में सार्वजनिक रैली में भाग लेंगे.

इसका मक़सद म्यांमार में बस चुके भारतीयों के साथ-साथ वहां के स्थानीय निवासियों के साथ जुड़ाव दिखाना है.

म्यांमार पर नज़र रखने वाले बिनोद मिश्र ने बीबीसी को बताया, "यह संयोग नहीं है कि रिजिजू ने रोहिंग्या मुसलमानों को बाहर भेजने के लिए कहा है. रिजिजू खुद बौद्ध हैं और उन्होंने तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा के साथ विवादित राज्य अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया था."

भारत में रोहिंग्या मुसलमानों पर रिसर्च करने वालीं अनीता सेनगुप्ता कहती हैं, "रोहिंग्या का वास्तविक निर्वासन ज़मीन पर होना कठिन है क्योंकि उनको किस देश में भेजा जाएगा यह साफ़ नहीं है लेकिन इसने मोदी के दौरे के पहले एक राजनीतिक हवा बनाने की कोशिश की है."

रोहिंग्या मुसलमानो से जुडी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए लाइक करे मुसलमानो का अपना पेज नीचे लाइक बटन दबाकर






Popular posts from this blog

रोहिंगय मुसलमानो की मदद के लिए तुर्क़ी ने किया बर्मा पर हमला। पढ़े पूरी खबर

Solar Panel Price For Home Use | Solar System Price For Home

बड़ी खबर: योगी ने लगाई उत्तर प्रदेश में इन जानवर की कुरबानी पर रोक। पढ़े पूरी खबर।

कट्टर संगठन तालिबान व अलक़ायदा बर्मा पर हमला करने को तैयार। पढ़े पूरी खबर

मौलाना मदनी ने दी योगी को चेतावनी कुरबानी में रुकावट बनने की कोशिश मत कर। पढ़े पूरा ब्यान

अलका ने कहा छेड़छाड़ करने वालो का लिंग काटो तो शाज़िया उतरी लिंग के बचाव में। पढ़े पूरी खबर

हिन्दू संगठनों ने पोस्टर लगाकर दी मुसलमानों को बकरा ईद ना मनाने की धमकी। अगर मनाई तो पढ़े पूरी खबर

मोदी के प्रधानमंत्री बनने से हो रहा है मुसलमानों का कत्ले आम-- अमेरिका। पढ़े पूरी खबर

30 sec love song video download whatsapp status